गोबर गैस प्लांट की स्थापना
/ Categories: Products, Biogas

गोबर गैस प्लांट की स्थापना

गोबर गैस प्लांट की स्थापना से कृषक परिवार को न सिर्फ धुआं रहित ईंधन प्राप्त होता है अपितु इससे प्राप्त स्लरी एक उन्नत जैविक खाद का काम करती है. गोबर गैस का निर्माण कर वृक्षों की कटाई पर रोक लगाकर ऊर्जा के क्षेत्र में स्वावलंबी व्यवस्था का निर्माण किया जा सकता है. 

गाय का ताजा गोबर 10 कि.ग्रा., 

गोमूत्र 10 लीटर, 

गुड ½ किलो तथा 

किसी भी दाल का आटा ½ किलो 


इस मिश्रण को पुराने मटके में 5-8 दिनों तक रखते है. उन्नत जीवाणुकल्चर बनता है जिसे जीवामृत कहते है. इसे 200 लीटर पानी में अच्छे से मिलाकर एक एकड़ भूमि में उपयोग करते है. इसे सिंचाई जल के साथ दे सकते है. इसके उपयोग से फसलों का वृद्धि-विकास अच्छा होता है. 
इसी प्रकार एक मटका जीवामृत को 250 लीटर पानी में घोलकर सूती कपडे से छान लिया जाता है. छने हुए पानी को फसलों पर छिड़कने से अच्छी वृद्धि व विकास होता है, एवं अधिक फूल, फल लगते है. यह एक अच्छा पौध वृद्धि का कारक है. दक्षिण भारत में पंचगव्य (गोबर, गोमूत्र, दूध, दही व घी के मिश्रण) का उपयोग फसलों में पौध वृद्धिकरण के रूप में किया जाता है. गाय के जनने के समय थैली का पानी (जर या एम्नीऑटिक फ्लूड) अलग एकत्र कर रखते है. कई कृषक इस फ्लूड का (3 प्रतिशत विलय पानी में) फसलों/फल वृक्षों पर छिड़काव करते है. इससे अधिक फूल एवं फल लगते है. गाय के दूध (3 प्रतिशत विलयन पानी में) का छिड़काव कई मिर्च उगाने वाले कृषक अधिक फलन हेतु करते है. ताजी छाछ/मट्ठा (3 प्रतिशत विलयन पानी में) के फसलों पर छिड़काव के अच्छे परिणाम मिलते है. गोमाता में आकाशीय शक्तियों को आकर्षित करने की ताकत होती है, इसके आधार पर जैवगतिकीय कृषि का जन्म हुआ है. प्राकृतिक रूप से मृत देशी गाय के सिंग में गोबर तथा सिलिका के उपयोग से क्रमशः नुस्खा 500 तथा 501 का निर्माण किया जाता है. जैवगतिकीय खादों की अल्प मात्रा लगती है तथा इसके परिणाम भी उत्साहवर्धक है. केन्द्रीय उपोष्ण, उध्यनिकी संस्थान द्वारा जैवगतिकीय खादों के लाभकारी परिणामों को शोध कार्यों द्वारा बतलाया गया है. देश के कई कृषकों द्वारा गाय के घी को कंडों पर चावल के साथ हवं कर कृषि पर्यावरण को शुद्ध कर, अग्निहोत्र कृषि पद्धति के माध्यम से फसलोत्पादन प्राप्त किया जा रहा है.
......सौजन्य से---गोसम्पदा

Print
2075 Rate this article:
5.0

Please login or register to post comments.

गोबर गैस प्लांट की स्थापना
0 2075
गोबर गैस प्लांट की स्थापना से कृषक परिवार को न सिर्फ धुआं रहित ईंधन प्राप्त होता है अपितु इससे प्राप्त स्लरी एक उन्नत...